Thursday, November 26, 2015

Companion

बूढ़े हो रहे हैं हम शायद
अब मन यूँ होता है
कि रोज़ घर जाएं
तो तुम मिला करो 

No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...