Wednesday, April 5, 2017

Vasudha

तुम्हे आदत है लोगों से अक्सर ये सुनने की
कि तुम्हारी कुछ बातें बिलकुल उनके जैसी हैं 
तुम्हे आदत है फिर प्यार से मुस्कुराने की 
क्यूंकि तुम्हारी सब बातें तुम्हारे जैसी हैं 

दरअसल वो सब तुम में ढूंढ रहे हैं 
वो सारी खूबियाँ जो उनमें हैं नहीं 
वो सारी अदायें जिनकी उन्हें चाहत है 
वो सारी बातें जो उनकी हैं नहीं 

जो उफनते हैं मदमस्त नदी की तरह 
उन्हें लगता है उनमें तुम्हारा ठहराव है 
और जिनकी बातें कभी ख़त्म नहीं होतीं 
उन्हें आशा है उनमें तुम्हारा स्वभाव है 

जो फिसल जाते हैं दुनिया के हर प्रलोभन से 
उनका मानना है तुम्हारा इनकार उनमें है 
और जो छुपकर रहते हैं मुश्किल रास्तों से 
उनका कहना है कि तुम्हारा साहस उनमें है 

तुम्हारी हँसी, तुम्हारी बचपन सी मीठी बातें 
तुम्हारी ख़ामोशी और तुम्हारी हसीन आँखें 
तुम्हारा दिल, खूबसूरती तलाशती निगाहें 
तुम्हारी समझदारी और तुम्हारे सच्चे वादे 

ये चीज़ें आसान होतीं तो हर किसी में मिलतीं 
फिर न होती किसी को तुम में खुद की तलाश
तुम जैसी बन पाऊँ ये कैसे मुमकिन है 
पर हो मुझमें भी तुम्हारी झलक, ऐसा होता काश

Happy Birthday Laddoo!




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...